• Categories
  • Sanskrit Subhashit   1
  • चन्दनं शीतलं लोके,चन्दनादपि चन्द्रमाः |

    चन्द्रचन्दनयोर्मध्ये शीतला साधुसंगतिः ||

    अर्थात् : संसार में चन्दन को शीतल माना जाता है लेकिन चन्द्रमा चन्दन से भी शीतल होता है | अच्छे मित्रों का साथ चन्द्र और चन्दन दोनों की तुलना में अधिक शीतलता देने वाला होता है |
    :rose:सुप्रभातम् :rose:
  • 7 years ago



    Tags : Sanskrit Subhashit